Mohabbat shayari, | मोहब्बत भरी शायरी


हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना.
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना..



नज़र को नज़र की खबर ना लगे,
कोई अच्छा भी इस कदर ना लगे,
आपको देखा है बस उस नज़र से,
जिस नज़र से आपको नज़र ना लगे…!



बरसात आये तो ज़मीन गीली न हो,
धूप आये तो सरसों पीली न हो,
ए दोस्त तूने यह कैसे सोच लिया कि,
तेरी याद आये और पलकें गीली न हों।


Mohabbat shayari in hindi

जी भर क देखू तुझे अगर गवारा हो .
बेताब मेरी नज़रे हो और चेहरा तुम्हारा हो .
जान की फिकर हो न जमाने की परवाह .
एक तेरा प्यार हो जो बस तुमारा हो!



हस्ते रहें आप हजारों के बीच में,
जैसे हस्ते हैं फूल बहारों के बीच में,
रोशन हो आप दुनिया में इस तरह,
जैसे होता है चाँद सितारों के बीच में |



तुज़से दोस्ती करने का हिसाब ना आया,
मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया,
हम तो जागते रहे तेरे ही ख़यालो मे,
और तुझे सो कर भी हमारा ख्वाब ना आया


Mohabbat shayari, | मोहब्बत भरी शायरी


Pyar mohabbat ki shayari

फुल हो तुम मुरझाना नहीं
अपने इस दोस्त को कभी भुलाना नहीं
जब तक हम जिन्दा है ए दोस्त
कभी किसी से घबराना नहीं



इतनी पीता हू की मदहोश रहता हू.
सब कुछ समझता हू पर खामोश रहता हू
जो लोग करते ह मुझे गिराने की कोशिश
मे अक्सर उन्ही के साथ रहता हू|



मत मुस्कुराओ इतना की फूलो को खबर लग जाये,
हम करें आपकी तारीफ और आपको नजर लग जाये
खुदा करे बहुत लम्बी हो आपकी जिंदगी ,
और उस पर भी हमारी उम्र लग जाये….



अरमान था तेरे साथ जिंदगी बिताने का,
शिकवा है खुद के खामोश रह जाने का,
दीवानगी इस से बढकर और क्या होगी,
आज भी इंतजार है तेरे आने का

No comments:

Theme images by Storman. Powered by Blogger.